Wednesday, June 17, 2020
No menu items!
Home राज्य उत्तर प्रदेश संस्कृति विवि में ले सकते हैं कहीं से भी आनलाइन प्रवेश

संस्कृति विवि में ले सकते हैं कहीं से भी आनलाइन प्रवेश

संस्कृति विवि में ले सकते हैं कहीं से भी आनलाइन प्रवेश, संस्कृति विवि की सजगता ने विद्यार्थियों को पहुंचाया बड़ा लाभ

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय में पूर्व से ही व्यक्तिगत रूप से, फोन से अथवा आनलाइन काउंसलिंग और प्रवेश की सुविधा दी जा रही है। वर्तमान परिस्थितियों और विद्यार्थियों की सुविधा को देखते हुए विश्वविद्यालय ने आनलाइन प्रवेश प्रक्रिया को और आसान व सुविधाजनक बनाया है। देश-विदेश के किसी भी हिस्से में रहने वाले विद्यार्थी निर्धारित वेबसाइट और फोन नंबरों पर संपर्क करके अपने चयनित पाठ्यक्रमों में आसानी से प्रवेश ले सकते हैं।
संस्कृति विवि के कुलाधिपति सचिन गुप्ता ने जारी एक बयान में कहा है कि कोविड-19 महामारी ने मानवीय जीवन के हर क्षेत्र को बुरी तरह से प्रभावित किया हुआ है। सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों में शिक्षा भी है। लाकडाउन के चलते सभी शिक्षण संस्थान अनिश्चित समय के लिए बंद हो गए। ऐसी परिस्थितियों में यदि हम उच्च शिक्षा की ही बात करें तो जो विद्यार्थी इंटर के बाद विभिन्न पाठ्यक्रम की नियमित शिक्षा ले रहे थे उनकी शिक्षा पूरी तरह से ठप हो गई। कालेजों और विश्वविद्यालयों के सामने बड़ी चुनौती यह थी कि इन विद्यार्थियों का कोर्स कैसे पूरा कराया जाय। इन हालातों में संस्कृति विवि ने तत्परता बरतते हुए आगे कदम बढ़ाया और सभी संकाय के सदस्यों को आन लाइन पाठ्यक्रम तैयार करने और विद्यार्थियों के साथ आन लाइन ही क्लास शुरू करने की पहल की। हमने सभी डीन, फैकल्टी को मार्च में लॉक डाउन शुरू होते ही इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए थे। इसका लाभ यह हुआ कि विवि के शिक्षकों ने एक सप्ताह के अंदर ही विभिन्न एप्स के माध्यम से लाइव क्लासेज शुरू कर कोर्स पूरे कराने प्रारंभ कर दिए।
कुलाधिपति गुप्ता का कहना है कि संस्कृति विवि द्वारा विद्यार्थियों को अपने विषय में विशेष ज्ञान से लाभान्वित करने के लिए देश-दुनिया के विषय विशेषज्ञों के लेक्चर आयोजित कराए गए। कोरोना की विभीषिका को ध्यान में रखते हुए सामान्य ज्ञान और भविष्य की चुनौतियों के प्रति तैयार करने के लिए एक्सपर्ट की वेबिनार आयोजित की गईं। ऐसा करने के पीछे विवि प्रशासन का उद्देश्य यही है कि हमारे विद्यार्थी इन वेबिनार से आवश्यक और अतिरिक्त कौशल हासिल करें और आने वाले भविष्य के लिए अपने आपको पूरी तरह से तैयार कर सकें।
उन्होंने कहा है कि हमें यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि संस्कृति विवि के द्वारा लॉक डाउन के दौरान रिकार्ड 60 से अधिक विषय संबंधी और जरूरत के मुताबिक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार आयोजित की जा चुकी हैं। इसके अलावा संस्कृति विवि की फैकल्टी द्वारा 32 हजार पांच सौ के करीब लेक्चर दिए जा चुके हैं। 110 फैकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम और 45 से अधिक फैकल्टी मीटिंग की जा चुकी हैं। यह सभी आन लाइन ही हुई हैं। आज संस्कृति विवि का विद्यार्थी भले ही विवि नहीं खुल सका हो, आवश्यक सभी पाठ्यक्रम पूरे कर चुका है। इतना ही नहीं वह वर्तमान हालातों और भविष्य की चुनौतियों से भलीभांति वाकिफ है।
यहां हम यह भी बताना चाहते हैं कि माध्यमिक शिक्षा पूरी करने के बाद जब विद्य़ार्थी अपने भविष्य की शिक्षा के लिए विषय और क्षेत्र का चयन करने जाएगा तो यहां भी उसे संस्कृति विवि द्वारा हर सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। संस्कृति विवि ने आनलाइन काउंसलिंग की पूरी सुविधा दी हुई है, इसका लाभ अन्य उन राज्यों के विद्यार्थी उठा भी रहे हैं जहां माध्यमिक परीक्षाएं हो चुकी हैं। विद्यार्थियों की सुविधा के लिए संस्कृति विवि ने आनलाइन प्रवेश के लिए व्यापक प्रवेश प्रणाली तैयारी की है। विद्यार्थी प्रवेश के लिए अपना रजिस्ट्रेशन वेबसाइट https://www.sanskriti.edu.in/register, ई. मेल admission@sanskriti.edu.in, व्हाट्सएप नंबर 9690899944, या फिर हेल्प लाइन 9358512345, 9359688848 से संपर्क कर करा सकते हैं। रजिस्ट्रेशन का काम जारी है और विद्यार्थी आन लाइन प्रवेश भी ले रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

संस्कृति विवि में ले सकते हैं कहीं से भी आनलाइन प्रवेश

संस्कृति विवि में ले सकते हैं कहीं से भी आनलाइन प्रवेश, संस्कृति विवि की सजगता ने विद्यार्थियों को पहुंचाया बड़ा लाभ

छाता कस्बे के तरुण बने सेना में लेफ्टिनेंट। कस्बे में चहुंओर हर्ष का माहौल

छाता: देश सेवा के लिए सेना में जाने का सपना हर युवा के मन में होता है परंतु सौभाग्यशाली होते हैं वह...

जालोर में जल्द शुरू होगी कोरोना टेस्टिंग लैब- रतन देवासी

जालोर- कोरोना महामारी के दौरान जिले में एक अच्छी खबर आ रही है, जिसका लंबे समय से जिलेवासी इंतज़ार कर रहे थे।जिले...

अधिकारियों की मिलीभगत से गरीबों के राशन पर माफियाओं का कब्जा

शेरगढ़ थाने के रान्हेरा गांव में राशन डीलर के द्वारा कालाबाजारी करने का एक और नया तरीका सामने आया है। जिसमें राशन...

Recent Comments